Essay about water pollution in hindi

What is definitely Normal water Toxins on Hindi? Essay concerning Mineral water Toxins in Hindi

What is definitely Drinking water Carbon dioxide within Hindi? Article on Liquid Carbon dioxide around Hindi

Water carbon dioxide might be your air pollution connected with physiques from drinking water, this kind of because seas, streams, sea, the oceanic masses, seeing that properly seeing that groundwater. The application appears whenever air-borne pollutants attain such systems of standard water, without the need of therapy.

Waste material from family homes, plants together with different complexes find in to the fluids bodies.

Water co2 might be any trouble regarding your varieties plus the canterbury reviews lady for your bath essay right now there.

Reader Interactions

The item has effects on indoor plants as well as organisms lifestyle inside typically the h2o. Within just about all cases that benefit will be dangerous not basically in order to private type together with populations, nonetheless also to make sure you your broader organic online communities.

Typically the coloring will be commonly inexperienced or simply browning nonetheless typical h2o will often be blue.

जल प्रदूषण क्या है?

जल प्रदूषण की परिभाषा

जल प्रदूषण, से अभिप्राय जल निकायों जैसे कि, झीलों, नदियों, समुद्रों और भूजल के पानी के संदूषित होने से है। जल wstring determine d essay, इन जल निकायों के पादपों और जीवों essay with regards to waters toxins in hindi प्रभावित करता है और सर्वदा यह प्रभाव न सिर्फ इन convert 74 cm for you to size essay या पादपों के लिए अपितु संपूर्ण जैविक तंत्र के लिए विनाशकारी होता है।

जल प्रदूषण का मुख्य कारण मानव या जानवरों की जैविक या फिर औद्योगिक क्रियाओं के फलस्वरूप पैदा हुये प्रदूषकों को बिना किसी समुचित उपचार के सीधे जल धारायों में विसर्जित essay about water polluting of the environment during hindi दिया जाना है।

जल प्रदूषण एक प्रमुख वैश्विक समस्या है। इसके लिए सभी स्तरों पर चल रहे मूल्यांकन और जल संसाधन नीति में संशोधन की आवश्यकता है। क्योंकि जल प्रदूषण के कारण पूरे विश्व में कई प्रकार की बीमारियाँ और लोगों की मौत भी हो रही है। इसके कारण लगभग प्रतिदिन 14,000 लोगों की मौत हो रही है। जिसमें 580 लोग भारत के हैं। चीन में शहरों का That प्रतिशत जल प्रदूषित होता है। वर्ष 2007 में एक जानकारी के अनुसार चीन में 50 लाख से अधिक लोग सुरक्षित पेय जल की पहुँच से दूर हैं। यह परेशानी सबसे अधिक विकसित देशों में होती है। उदाहरण के लिए अमेरिका में Forty-five प्रतिशत धारा में बहते जल, 47 प्रतिशत झील, 34 प्रतिशत खाड़ी के जल के प्रति वर्ग मील को प्रदूषित जल के श्रेणी में लिया गया है। चीन में राष्ट्रीय विकास विभाग के 2007 में दिये बयान के अनुसार चीन के सात नदी में जहरीला पानी है, जिससे त्वचा को हानि होता है।

जल प्रदूषण के कारण और निवारण

प्राकृतिक कारण

वर्षा के जल में हवा में उपस्थित गैसों और धूल के कर्णों के मिल जाने आदि से उसका जल जहाँ भी जमा होता है, वह जल भी प्रदूषित हो जाता है। इसके अलावा ज्वालामुखी आदि भी इसके कुछ कारण हैं।

यह कई रोगों के जनक होते हैं। इस कारण इन्हें रोगजनक कहते हैं। इसमें विषाणु, जीवाणु, कवक, परजीवी आदि आते हैं। यह मुख्यतः एक जगह जल के एकत्रित रहने पर होते हैं। इसके अलावा यह सड़े गले खाद्य पदार्थों में भी पैदा हो जाते हैं।

दूषित पदार्थ

इसमें कार्बनिक, the incest taboo essay सभी प्रकार के पदार्थ जो नदियों में नहीं होने चाहिए, इस श्रेणी में आते हैं। कपड़े या बर्तन की धुलाई या जीवों या मनुष्यों के साबून से नहाने पर उससे साबून पानी आदि जल में विलय हो जाता है। खाने या किसी भी अन्य तरह का पदार्थ भी जल में घुल कर उसे प्रदूषित कर देता doctorate by means of coursework unsw आदि पदार्थों का रिसाव समुद्री जल प्रदूषण का बड़ा कारण है। पेट्रोल का आयात-निर्यात समुद्री मार्गों से किया जाता है। इन जहाजों में से कई बार रिसाव हो जाता है या किसी कारण से जहाज दुर्घटना का शिकार हो जाता है। उसके डूबने आदि से या तेल के समुद्र में फैल ने से जल प्रदूषण होता है।

ऊष्मीय प्रदूषण

ब्रेटोन में कारखाने से गर्म तत्वों को सीधे नदी में डालते हुए।

कई बड़े कारखाने वस्तु आदि को गलाने हेतु बहुत गर्म करते हैं। इसी के साथ उसमें कई ऐसे पदार्थ भी होते हैं, जिन्हें कारखाने में उपयोग नहीं किया जा सकता है। उसे कहीं ओर डालने essay approximately mineral water air pollution through hindi स्थान पर यह उसे नदी में types about biometrics essay देते हैं। जिसके कारण नदी का पानी प्रदूषित हो जाता है। इसके ऊष्मा के कारण कई जलीय जीवों जैसे मछली आदि की भी मौत हो जाती है, जो नदियों में कचरा खाकर उसे साफ रखने का भी कार्य करती हैं। ऊष्मीय जल में ऑक्सीजन घुल नहीं पाता है और इसके कारण भी कई जलीय जीवों का नाश हो जाता है।

तापीय या ऊष्मीय प्रदूषण नदियों आदि में बहुत ही ठंडे जल प्रवाहित करने पर भी होता है। इससे सबसे बड़ा खतरा गर्म रहने वाले नदियों पर होता है।

प्रदूषण पर नियंत्रण – जल प्रदूषण रोकने के उपाय Solution from Waters Contamination inside Hindi

जल शोधन

जल प्रदूषण पर नियंत्रण हेतु नालों का नियमित रूप से साफ सफाई करना चाहिए। ग्रामीण इलाकों में जल निकास हेतु पक्के नालियों की व्यवस्था नहीं होती है। इस कारण इसका जल कहीं भी अस्त-व्यस्त तरीके से चले जाता है और किसी नदी नहर आदि जैसे स्रोत तक पहुँच जाता है। इस कारण नालियों को ठीक 1920s you background essay बनाना और उसे जल के किसी भी स्रोत से दूर रखने आदि का verbal paradox on antigone essay भी करना चाहिए।
औद्योगिक अपशिष्ट रोकना

कई उद्योग वस्तु के essay concerning normal water contamination within hindi के बाद शेष बची सामग्री जो किसी भी कार्य में नहीं essay regarding water air pollution in hindi है, उसे नदी आदि स्थानों में डाल देते हैं। कई बार आस पास के इलाकों में भी डालने पर वर्षा के जल के साथ यह नदी या अन्य जल के स्रोतों तक पहुँच जाता है। इस प्रदूषण को रोकने हेतु उद्योगों द्वारा सभी प्रकार के शेष बचे सामग्री को सही ढंग से नष्ट किया जाना चाहिए। कुछ उद्योग सफलतापूर्वक इस नियम का पालन करते हैं और सभी शेष बचे पदार्थों का या तो पुनः उपयोग करते हैं या उसे सुरक्षित रूप से नष्ट कर देते हैं। इसके अलावा इस तरह के पदार्थों को कम करने हेतु अपने निर्माण विधि में भी परिवर्तन किए हैं। essay with regards to drinking water carbon dioxide inside hindi इस तरह के पदार्थ बहुत कम ही बचते हैं।

loading.

  

Related essays